लोकप्रियता से काफी दूर रहते हैं महेंद्र सिंह धोनी के भाई-बहन बड़ा भाई बन गया नेता, तो बहन हैं शिक्षक!

एक ऐसा खिलाड़ी जिसने क्रिकेट इतिहास मे भारत को एक नई उचाईं पर लें गया। जब भारतीय टीम एक सीरीज या टूर्नामेंट को जीतने मे असफल हो रही थे तब धोनी ने टीम के कठिन फैसले लेकर भारत को उस ऊँचाई पर ले गए जहां भारतीय टीम ने आईसीसी के सभी ट्रॉफी को अपने नाम किया और भारत के 28 साल के इंतजार को भी खत्म किया था।


आज मिलने चलते उनके परिवार के सदस्यों से जिनका मीडिया की लाइमलाइट से कोई लेना देना ही नहीं है।

आपने महेंद्र सिंह धोनी से जुड़े तो काफी तथ्य पढे है लेकिन आज हम चलते है धोनी के भाई बहनों के जीवन सफ़र जो काफी रोमांचक रहा है। जहां धोनी के क्रिकेट की दुनिया मे आने मे का काफी बड़ा योगदान रहा है वही उनके बड़े भाई कुछ समय से काफी चर्चा मे बने हुए है।

धोनी अपने भाई और बहनों मे काफी लोकप्रिय रहे है जिसमे इनके बड़े भाई का नाम नरेंद्र सिंह धोनी है। धोनी के प्रदार्पण से पहले इनको कोई ज्यादा ख्याति प्राप्त नहीं थी। नरेंद्र सिंह धोनी बेहद कम उम्र मे अपना घर परिवार छोड़ दिया था। धोनी के जीवन पर बनी फिल्म एमएस धोनी - द अनटोल्ड स्टोरी मे भी इनकी कोई चर्चा नहीं की गई है।

टेलीग्राफ न्यूजपेपर द्वारा लिए गए एक इंटरव्यू मे नरेंद्र सिंह धोनी इसको लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ' मुझे फिल्म मे जोड़ना या ना जोड़ना ये फिल्ममेकर की चॉइस हो सकती है इसमे मैं क्या कह सकता हूँ। शायद मैं इस फिल्म इसलिए भी नहीं हूँ की, क्योंकि धोनी के जीवन मे मेरा ज्यादा योगदान नहीं है, और वैसे भी ये मूवी धोनी के ऊपर है ना कि धोनी के परिवार के ऊपर '

बता दे नरेंद्र सिंह धोनी 2009 मे बीजेपी मे शामिल हुए थे लेकिन 4 साल के बाद ही 2013 मे इन्होंने समाजवादी पार्टी जॉइन कर ली।

धोनी के सफलता मे उनकी बहन जयंती का बहुत बड़ा योगदान रहा है और धोनी ने कई बार अपने बयानों ये कहते पायें गए हैं कि ' मुझे इस मुकाम पर पहुचने मे मेरी बहन का बहुत बड़ा हाथ है।' धोनी की बहन जयंती पेशे से एक शिक्षक है और ये शादीशुदा है। दरअसल जब कोई माही का खेल ने साथ नहीं दे रहा था तब इन्होंने माही का हाथ थामे रखा।

अपनी सादगी और मासूमियत के लिए मशहूर धोनी पिछले कई सालों से अपने आप को सादगी के चादर के नीचे ढक रखा है और कभी ट्रैक्टर चलते नजर आए तो कभी खेती करते हुए। धोनी अंतरराष्ट्रीय मैचों से सन्यास के बाद काफी कम मीडिया की सुर्खियों मे आए है।अब ये सिर्फ आईपीएल ही खेलते नजर आते है जिसमे अपने फिटनेस के दम अच्छी अच्छी युवा टीम को कड़ी टक्कर देते है। इनके फिटनेस को मिसाल बताते हुए कई बार रोहित को भी ट्रोल किया गया है।

जब से धोनी के हाथ मे टीम इंडिया की कमान आई तब से टीम इंडिया के सितारे फलक पर नजर आ रहे थे। 2007 मे धोनी ही वो कप्तान थे जिन्होंने टीम को टी20 विश्व कप जीतवाया था और उसके बाद टीम इंडिया टी20 विश्व कप के जद्दोजहद कर रही है। धोनी ही भारत को 28 सालों के इंतजार को करवाते हुए फिनिसर के तरह खेल कर 2011 विश्व कप जितवाया था।


Post a Comment

0 Comments